कोलकाता, 23 मई (भाषा) पश्चिम बंगाल में कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के बीच कई स्वयंसेवी और वाम संगठन सामुदायिक रसोइयों के जरिए गरीब लोगों को भोजन उपलब्ध करा रहे हैं।

लॉकडाउन के दौरान कोई भूखा न रहे इसके लिए स्वयंसेवी और वाम संगठनों ने शानदार पहल की है।

ऐसी ही एक सामुदायिक रसोई यादवपुर श्रमजीवी कैंटीन के नाम से पिछले करीब एक साल से चल रही है। इसका संचालन वाम संगठन एसएफआई और डीवाईएफआई की ओर से किया जा रहा है। आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए नेताजीनगर, आजादगढ़, बाघाजतिन और 8बी बस स्टैंड के पास ऐसी ही सामुदायिक रसोइयां स्थापित की गयीं हैं।

यादवपुर विश्वविद्यालय में एसएफआई के एक नेता ने कहा, ‘‘हम पिछले करीब एक साल से ऐसी कैंटीन चला रहे थे जिसमें केवल 20 रुपये देकर चावल, सब्जी, अंडा अथवा मछली खा सकते हैं। लॉकडाउन के कारण कई लोग ऐसे हैं जिन्हें काफी परेशानी हो रही है और वे 20 रुपये भी नहीं दे सकते, ऐसे कुछ लोगों को हमने दोपहर में निशुल्क भोजन उपलब्ध कराया है।’’

बंगाली संस्कृति और