भारत के पूर्व महान स्पिनर अनिल कुंबले ने गुरुवार को टीम इंडिया के अपने पूर्व साथी वसीम जाफर का समर्थन किया जिन पर उत्तराखंड क्रिकेट संघ (CAU) ने आरोप लगाया है कि राज्य की टीम के कोच के रूप में उन्होंने धर्म आधारित चयन करने का प्रयास किया.

राज्य संघ से विवाद के बाद उत्तराखंड के कोच का पद छोड़ने वाले जाफर ने बुधवार को क्रिकेट संघ के अधिकारियों के आरोपों को खारिज किया कि वह टीम में मुस्लिम खिलाड़ियों पक्ष ले रहे थे. जाफर को अब पूर्व भारतीय कप्तान और कोच कुंबले का समर्थन मिला है जो अभी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की क्रिकेट समिति के प्रमुख हैं.

कुंबले ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘‘आपके साथ हूं वसीम. आपने सही किया. दुर्भाग्यशाली खिलाड़ी हैं जिन्हें आपके मेंटर नहीं होने की कमी खलेगी.’’

पूर्व ऑलराउंडर इरफान पठान ने भी वसीम जाफर के समर्थन में ट्वीट किया है, उन्होंने कहा ये दुखद है कि आपको सफाई देनी पड़ रही है. 

वहीं बंगाल टीम के कप्तान मानोज तिवारी ने कहा, "मेरी उत्तराखंड के बीजेपी चीफ मिनिस्टर श्रीमान त्रिवेंद्र सिंह रावत से अपील है कि वह तुरंत दखल दें और इस मामले का संज्ञान लेकर जरूरी एक्शन लें जिसमें हमारे नेशनल हीरो वसीम भाई को क्रिकेट असोसिएशन द्वारा सांप्रदायिक बताया गया. ये उदाहरण तय करने का वक्त है."

भारत के लिये 31 टेस्ट खेल चुके जाफर ने कहा था कि टीम में मुस्लिम खिलाड़ियों को तरजीह देने के सीएयू के सचिव माहिम वर्मा के आरोपों से उन्हें काफी तकलीफ पहुंची. जाफर ने चयन में दखल और चयनकर्ताओं तथा संघ के सचिव के पक्षपातपूर्ण रवैये को लेकर मंगलवार को इस्तीफा दे दिया था.

जाफर ने वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में बुधवार को कहा ,‘‘ जो कम्युनल एंगल लगाया, वह बहुत दुखद है. उन्होंने आरोप लगाया कि मैं इकबाल अब्दुल्ला का समर्थन करता हूं और उसे कप्तान बनाना चाहता था जो सरासर गलत है.’’

ये भी पढ़ें: Wasim Jaffer पर लगा मुस्लिम खिलाड़ियों को तरजीह का आरोप, पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने दी सफाई

रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज जाफर ने इन आरोपों को भी खारिज किया कि टीम के अभ्यास सत्र में वह मौलवियों को लेकर आए थे. उन्होंने कहा ,‘‘ उन्होंने कहा कि बायो बबल में मौलवी आए और हमने नमाज पढ़ी. मैं आपको बताना चाहता हूं कि मौलवी, मौलाना जो भी देहरादून में शिविर के दौरान दो या तीन शुक्रवार को आए, उन्हें मैंने नहीं बुलाया था.’’

जाफर ने कहा ,‘‘ इकबाल अब्दुल्ला ने मेरी और मैनेजर की अनुमति जुमे की नमाज के लिये मांगी थी.’’ इस पूर्व भारतीय बल्लेबाज ने ट्वीट करके कहा, ‘‘कप्तानी के लिए जय बिस्टा के नाम की सिफारिश की थी, इकबाल की नहीं लेकिन सीएयू अधिकारियों ने इकबाल को पसंद किया.’’

जाफर को जून 2020 में उत्तराखंड का कोच बनाया गया था. उन्होंने एक साल का करार किया था. उत्तराखंड की टीम सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में पांच में से एक ही मैच जीत सकी.

ये भी पढ़ें: विराट कोहली और टीम इंडिया के फैन हैं स्टार फर्राटा धावक योहान ब्लेक, ENG से हार के बाद कही ये बात