वेस्टइंडीज के कप्तान जेसन होल्डर ने निराशा जताई है कि इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की कोई भी टीम ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ (BLM) अभियान के समर्थन में ‘घुटने के बल झुककर’ एकजुटता नहीं दिखा रही और दुनिया की सबसे लुभावनी लीग ने इस अभियान की पूरी तरह अनदेखी की.

IPL टीम सनराइजर्स हैदराबाद के सदस्य होल्डर ने क्रिकेट राइटर्स क्लब की ओर से आयोजित आनलाइन कार्यक्रम में वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम की ओर से प्रतिष्ठित पीटर स्मिथ पुरस्कार लेने के दौरान यह बयान दिया.

पीटर स्मिथ पुरस्कार वार्षिक सम्मान है जो जनता को क्रिकेट पेश करने के लिए बहुमूल्य योगदान पर दिया जाता है.

क्रिकेट वेस्टइंडीज की वेबसाइट पर पोस्ट अपने संबोधन में होल्डर ने कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो यहां इसे (बीएलएम) लेकर एक बार भी बात नहीं हुई. कभी कभी लगता है कि इसकी अनदेखी कर दी गई जो दुखद है. मुझे लगता है कि हमें इसके महत्व को दोबारा बताना होगा, जिससे कि लोग समझ सकें कि दुनिया में क्या चल रहा है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘कोविड-19 ने बेशक काफी ध्यान खींचा है, अमेरिका में होने वाले चुनावों पर भी अचानक काफी ध्यान दिया जा रहा है. लेकिन हमारे लिए, विशेषकर कैरेबिया के अश्वेत लोगों के रूप में यह हमारे लिए जरूरी है कि शिक्षा जारी रहे.’’

होल्डर ने कहा, ‘‘क्रिकेट वेस्टइंडीज ने इसे लेकर जागरूकता के लिए शानदार काम किया है. इंग्लैंड में महिला टीम ने श्रृंखला के दौरान ब्लैक लाइव्स मैटर लोगो पहना और इस अभियान को आगे बढ़ाना जारी रखा.’’

इंग्लैंड में वेस्टइंडीज की श्रृंखला के दौरान घुटने के बल झुकने की शुरुआत हुई थी. अमेरिका के मिनियापोलिस में एक श्वेत पुलिस अधिकारी के हाथों अश्वेत अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड के मारे जाने पर नस्लवाद के विरोध का यह प्रतीक बना था. लेकिन पाकिस्तान और आस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला के दौरान ऐसा नहीं किया गया.