WhatsApp ने अब अपना फैसला बदल लिया है. कंपनी ने अपनी विवादित निजता नीति से जुड़ा अपडेट स्वीकार करने के लिए उपयोगकर्ताओं को दी गयी 15 मई तक की समयसीमा से जुड़ा फैसला वापस ले लिया है और कहा है कि शर्तों को स्वीकार न करने पर भी अकाउंट हटाए नहीं जाएंगे.

यह भी पढ़ेंः World Test Championship Final: भारतीय टीम में चार धुरंधरों की वापसी

गौरतलब है कि WhatsApp की प्रस्तावित नीति पर उपयोगकर्ताओं ने अपने डाटा के अधिकार को लेकर चिंताएं जताई थी. व्हाट्सऐप के तमाम उपयोगकर्ताओं ने कहा कि नयी नीति के तहत उनका डेटा WhatsApp का स्वामित्व रखने वाली कंपनी फेसबुक के साथ शेयर किए जाएगा.

इसको लेकर इस निशुल्क मैसेजिंग एवं कॉलिंग सेवा देने वाले कंपनी की काफी आलोचनाएं हो रही थीं.

WhatsApp के एक प्रवक्ता ने पीटीआई से कहा कि नीति से जुड़े अपडेट को स्वीकार न पर 15 मई को कोई खाता डिलीट नहीं किया जाएगा.

यह भी पढ़ेंः एक दिन में कितने ग्राम नमक खाना चाहिए? जानें WHO की गाइडलाइन

उन्होंने ईमेल के जरिए भेजे गए एक सवाल के जवाब में शुक्रवार को कहा, 'इस अपडेट की वजह से 15 मई को कोई भी खाता डिलीट नहीं किया जाएगा और भारत में किसी की भी व्हाट्सऐप सेवा बंद नहीं की जाएगी. हम लोगों को अगले कुछ हफ्तों में नयी जानकारी भेजेंगे.'

प्रवक्ता ने कहा कि जहां नयी सेवा शर्तों का अपडेट पाने वाले ज्यादातर उपयोगकर्ताओं ने उसे स्वीकार कर लिया ह, कुछ लोगों के पास अब भी यह अपडेट नहीं पहुंचा है.

प्रवक्ता ने हालांकि साफ नहीं किया कि कंपनी ने किन कारणों से अपने रुख में बदलाव किया और इन शर्तों को स्वीकार करने वाले उपयोगकर्ताओं की संख्या का भी खुलासा नहीं किया.

यह भी पढ़ेंः SSC CGL और CHSL समेत CAPF परीक्षा स्थगित, देखें नोटिस