उत्तर प्रदेश के आगरा से एक चौंकाने वाला वीडियो सामने आ रहा है. इसमें एक डॉक्टर कह रहे हैं कि उन्होंने एक मॉक ड्रिल में कोरोना के मरीजों की ऑक्सीजन बंद कर देखा गया कि कौन मर रहा है और कौन नहीं? इस वीडियो को लेकर दावा है कि ये 26 अप्रैल का है और इसमें जो डॉक्टर बोल रहे हैं उन्हें शहर के पारस अस्पताल का मालिक बताया जा रहा है. 

वीडियो में डॉक्टर क्या कह रहे हैं?

वायरल वीडियो में डॉक्टर कह रहे हैं कि उन्होंने अपने हॉस्पिटल में एक मॉक ड्रिल के दौरान ऑक्सीजन 5 मिनट के लिए बंद की. उन्होंने बताया कि इसमें ऐसे 22 मरीज सामने आए जिनकी ऑक्सीजन की कमी से मौत हो सकती थी. डॉक्टर ने किसी मरीज की मौत की बात नहीं की है. डॉक्टर का कहना है कि मॉक ड्रिल गंभीर मरीजों को पहचानने के लिए किया था, जिससे मालूम चल जाए कि किसे ऑक्सीजन की ज्यादा जरुरत है. डॉक्टर ने बताया कि ऐसे 74 मरीज जो गंभीर नहीं थे उन्हें अपना ऑक्सीजन सिलेंडर लाने को कहा.

वायरल वीडियो देखे: 

मामले में आगरा के डीएम ने क्या कहा? 

आगरा के डीएम प्रभु नारायण सिंह ने इस मामले में कहा, "अस्पताल में 22 गंभीर मरीज भर्ती थे, लेकिन उनकी मृत्यु का कोई विवरण नहीं है. हम उनकी मौत को लेकर सामने आए वीडियो की जांच करेंगे." डीएम ने बताया कि पारस अस्पताल में कुल 97 मरीज भर्ती थे, जिसमें से 26 अप्रैल को चार लोगों की मौत हुई और 27 तारीख को तीन लोगों की मौत हुई.  

मामले में यूपी के स्वास्थ्य मंत्री ने कही ये बात 

यूपी के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि शिकायत मिली है कि पारस अस्पताल में ऑक्सीजन मुहैया कराने में दिक्कत आ रही थी,  जांच चल रही है, जांच पूरी होने के बाद अधिक जानकारी दी जाएगी. 

कांग्रेस के नेशनल कोर्डिनेटर गौरव पांधी ने ट्वीट कर दावा किया है, "आगरा के एक अस्पताल में 22 मरीजों की मौत हो गई क्योंकि ऑक्सीजन की आपूर्ति में कटौती करके उन पर "मॉक ड्रिल" की गई." हालांकि 22 मरीजों के जान गंवाने का दावा कांग्रेस नेता किस आधार पर कर रहे हैं ये पता नहीं है.  

ट्विटर पर कई लोग दावा कर रहे हैं कि पारस अस्पताल में ऑक्सीजन बंद करने की वजह से 22 लोगों की मौत हो गयी थी, हालांकि वायरल वीडियो में डॉक्टर ने कहीं भी 22 मरीजों की मोत की बात नहीं की है. 

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के सभी जिलों से कोरोना कर्फ्यू हटा, वीकेंड और नाईट कर्फ्यू बरकरार

ये भी पढ़ें: 'हम भी लगवाएंगे टीका', पीएम के संबोधन के बाद वैक्सीन लगवाने को तैयार हुए अखिलेश