कृष्णा नागर ने देश को टोक्यो पैरालंपिक में पांचवा गोल्ड मेडल दिलाया है. उन्होंने ने ये कारनामा बैडमिंटन एकल प्रतियोगिता में कर दिखाया है. टोक्यो पैरालंपिक के बैंडमिटन प्रतिस्पर्धा में भारत को अबतक तीन मेडल मिल चुके हैं. कृष्णा ने दूसरा गोल्ड जीताया है.  

कृष्णा नागर राजस्थान के जयपुर के रहने वाले एक भारतीय पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी हैं. जयपुर में जन्मे नागर ने 2014 में बैडमिंटन में कदम रखा. कृष्णा के नाम कई पदक हैं. उन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी पदक जीता है. 22 वर्षीय कृष्णा ने इंडोनेशिया में 2018 एशियाई पैरा खेलों में कांस्य पदक भी जीता है. कृष्णा एसएच 6 वर्ग में दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी हैं.

यह भी पढ़ेंः Tokyo Paralympics: नोएडा के DM सुहास एल यथिराज ने जीता सिल्वर, मैच के लास्ट में गोल्ड से चूके

कृष्णा नागर का करियर

1. इंडोनेशिया में 2018 पैरा एशियाई खेलों में, कृष्णा नागर ने एकल  कांस्य पदक जीता.

2. स्विट्जरलैंड के बासेल में 2019 पैरा बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप में कृष्णा नागर ने हमवतन राजा मगोत्रा ​​के साथ पुरुष युगल रजत पदक जीता. साथ ही एकल प्रतिस्पर्धा में कास्य भी जीता.

3. टोक्यो, जापान में 2020 ग्रीष्मकालीन पैरालिंपिक में, कृष्णा नगर ने पुरुष एकल में स्वर्ण पदक जीता.

यह भी पढ़ेंः सुहास एल यथिराज को पीएम मोदी और सीएम योगी ने दी बधाई, पत्नी ने कहा- देश के लिए गर्व

आपको बता दें, वह वर्तमान में लखनऊ से पैरा बैडमिंटन टीम के मुख्य राष्ट्रीय कोच गौरव खन्ना द्वारा प्रशिक्षित हैं, जिन्हें 2020 में द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.वह टोक्यो में भारतीय दल में कई अन्य पैरा शटलरों के कोच भी हैं.

अपने करियर की शुरुआत के बारे में कृष्णा ने एक बयान में कहा था कि, ऐसे कई खेल थे जो मैं (स्कूल में) नहीं खेल सकता था, लेकिन मुझे एहसास हुआ कि मैं तेज दौड़ सकता हूं इसलिए मैं हर समय स्प्रिंट का अभ्यास करना शुरू किया. फिर मुझे बैडमिंटन मिला. मैं वास्तव में ऊंची कूद कर सकता हूं और मैं तेजी से दौड़ सकता हूं. इसके बाद मैंने अपनी पूरी क्षमता का परीक्षण करना शुरू किया.

यह भी पढ़ेंः कौन हैं सुहास एल यथिराज?

कृष्णा अब टोक्यो पैरालंपिक में गोल्ड जीतने के बाद खुश हैं. उन्होंने कहा, स्वर्ण पदक जीतकर मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. मैं खुशकिस्मत हूं कि मैं देश के लिए स्वर्ण पदक लाया. मैं अपना मेडल अपने मम्मी-पापा और अन्य परिवार वालों को समर्पित करना चाहूंगा जिन्होंने मुझे यहां तक लाने के लिए सपोर्ट किया.

#KrishnaNagar #Paralympics #Tokyo