पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ऑस्कर फर्नांडिस (Oscar Fernandes) का निधन हो गया है. उन्होंने कर्नाटक के मंगलुरु में अंतिम सांस ली. बताया जा रहा है कि सिर में चोट की वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इसके बाद उनकी तबियत काफी बिगड़ गई थी. ऑस्कर फर्नांडिस अभी राज्यसभा सांसद थे. वे यूपीए सरकार में सड़क एवं परिवहन, श्रम एवं रोजगार मंत्री भी रह चुके हैं.

यह भी पढ़ेंः भूपेंद्र पटेल ने ली गुजरात के सीएम पद की शपथ, 15 महीने बाद होने हैं चुनाव

यूपीए सरकार के दोनों कार्यकाल में मंत्री रह चुके ऑस्कर फर्नांडिस लंबे वक्त के साथ गांधी परिवार के साथ काम कर रहे थे. राजीव गांधी के वह संसदीय सचिव रह चुके थे. ऑस्कर फर्नांडिस की गिनती कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी के करीबियों में से होती थी.

ऑस्कर फर्नांडिस का जन्म 27 मार्च 1941 को कर्नाटक के उडुप्पी में ही हुआ था. साल 1980 में कर्नाटक की उडप्पी लोकसभा सीट से वह सांसद चुने गए थे, उसके बाद 1996 तक यहां से लगातार जीतते आए. साल 1998 में कांग्रेस ने उन्हें राज्यसभा भेज दिया था, तब से वह बतौर राज्यसभा सांसद ही संसद के सदस्य बने हुए थे.

यह भी पढ़ेंः पेगासस मामले में SC से केंद्र ने कहा- 'सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल पर चर्चा सार्वजनिक विषय नहीं'

ऑस्कर फर्नांडिस के निधन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से पीएमओ ने दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा- राज्यसभा सांसद ऑस्कर फर्नांडीस जी के निधन से दुखी हूं. इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं उनके परिवार और शुभचिंतकों के साथ हैं. उनकी आत्मा को शांति मिले.

ऑस्कर फर्नांडिस के निधन पर कांग्रेस पार्टी ने ट्विट करते हुए दुख जताया है. कांग्रेस ने कहा- "ऑस्कर फर्नांडिस के निधन से हमें गहरा दुख हुआ है, उनके परिवार के प्रति हमारी हार्दिक संवेदना है. एक कांग्रेस के दिग्गज, समावेशी भारत के लिए उनके दृष्टिकोण का हमारे समय की राजनीति पर उनका बहुत बड़ा प्रभाव था. कांग्रेस परिवार को उनके मार्गदर्शन और दिशा-निर्देश की कमी खलेगी."

यह भी पढ़ेंः भूपेंद्र पटेल के सामने विजय रुपाणी से भी बड़ी होगी ये 5 चुनौतियां