रसोई में इस्तेमाल होनेवाले LPG गैस सिलेंडर पर सब्सिडी को लेकर सभी उपभोक्ताओं के मन में सवाल रहते हैं. खास कर ये शिकायतें ज्यादा देखी जा रही है कि उनके खाते में सब्सिडी नहीं आती है. ऐसे में उपभोक्ताओं को लगता है कि सरकार ने अब सब्सिडी खत्म कर दी है. लेकिन अब एक उपभोक्ता के सवाल का सोशल मीडिया पर सरकार की ओर से जवाब दिया गया है, जिसमें बताया गया है कि किन लोगों को अब सिलेंडर की सब्सिडी मिलेगी.

यह भी पढ़ेंः अगर आप काट रहे हैं 50 हजार से ज्यादा का चेक तो जान लें RBI के नियम

दिल्ली के एक उपभोक्ता ने Tweet किया, 'हम एकबार फिर जानना चाहेंगे कि क्या मोदी सरकार ने एलपीजी पर सब्सिडी खत्म कर दीं है. क्योंकि पिछले 18 महीने में एक पैसा भी सब्सिडी का हमारे a/c में नहीं आया, जबकि गैस एजेंसी वाउचर पर बाकायदा Rs. 859 के साथ Subsidised Cylinder लिखती है.' सीएल शर्मा नाम के इस ग्राहक ने पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस विभाग @MoPNG_Seva को टैग करते हुए ट्वीट के साथ गैस एजेंसी की पर्ची भी अटैच की.

टि्वटर अकाउंट @MoPNG_eSeva के जरिए इस ट्वीट का जवाब दिया गया, 'प्रिय ग्राहक नोट करें- सब्सिडी समाप्त नहीं की गई है बल्कि वर्तमान में भी घरेलू एलपीजी गैस पर सब्सिडी प्रचलन में है और यह अलग-अलग बाजारों में अलग-अलग होती है. पहल (डीबीटीएल) योजना 2014 के अनुसार किसी बाजार के लिए सब्सिडी की राशि ‘सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत’ और ‘गैर-सब्सिडी वाले सिलेंडर की बाजार द्वारा निर्धारित कीमत’ के बीच के अंतर से निर्धारित होती है.

यह भी पढ़ेंः बाजार में सब्जी बेचते दिखे IAS ऑफिसर! फोटो वायरल होने पर अधिकारी ने बताई सच्चाई

@MoPNG_eSeva ने अगले ट्वीट में लिखा है, यदि गैर-सब्सिडी वाला मूल्य सब्सिडी वाले मूल्य से अधिक है, तो ऐसे अंतर की राशि को, सिलेंडरों की अधिकतम सीमा, जो वर्तमान में 12 रिफिल सिलेंडर प्रति वित्तीय वर्ष है, तक नकद अंतरण अनुपालक ग्राहकों के बैंक खाते में सीधे अंतरित किया जाता है. उपरोक्‍त के मद्देनजर, आपके बैंक खाते में मई -2020 से आपकी सब्सिडि 0/- जेनरेट हो रही है अत: कोई सब्सिडी हस्तांतरित नहीं की गई है. यदि आपको एलपीजी से संबंधित मुद्दों के संबंध में कोई अन्य शिकायत है, तो आप सीधे ग्राहक सेवा प्रकोष्ठ 011-23322395, 23322392, 23312986, 23736051, 23312996 पर सोमवार से शुक्रवार (लंच समय को छोड़कर) प्रात: 9.00 बजे से 5.00 बजे तक संपर्क कर सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः सरकार ने कहा- हम अभी भी कोरोना की दूसरी लहर के बीच में, सिंतबर और अक्टूबर महत्वपूर्ण