बॉलीवुड एक्टर रह चुके फैसल खान (Faissal Khan) कहते हैं कि उन्होंने अपनी ज़िंदगी में सब कुछ देख लिया है और वे एक विजेता की तरह उभर कर आए हैं. फैसल अक्सर अपने भाई आमिर खान के साथ अपने संबंधों को लेकर सुर्खियों में रहे हैं. पर अब उनका कहना है कि उन्होंने पुरानी बातों को पीछे छोड़ दिया है और बतौर निर्देशक अपनी नए सफ़र में अपने फैन्स की उम्मीदों पर खड़ा उतरना चाहते है.

जब फैसल से पूछा गया कि वे अपनी ज़िंदगी से कौन सी ऐसी चीज़ है जो मिटाना चाहते हैं तो उन्होंने "कुछ भी नहीं" कहते हुए उन्होंने ये भी जोड़ा, "मैं अपने जीवन की गति के साथ इसे बस अब जीना चाहता हूं."

VIDEO: एक्टर धर्मेंद्र की मस्ती, 'रॉकी और रानी की प्रेम कहानी' फिल्म की शूटिंग पर ऐसे किया एन्जॉय

फैसल का कहना है, "इंसान की ज़िंदगी में जो भी कुछ होता है वो उसके अनुभवों में जुड़ जाता है. सौभाग्यपूर्ण मैं अपने जीवन में कभी टूटा नहीं. हालांकि मैं बहुत दबाव में था पर खुद पर और ईश्वर पर भरोसे ने मुझे हिम्मत दी. मेरी सारी ताक़त ईश्वर से ही आती है. मेरा मानना है कि मुझे जिस परिस्थितियों से गुजरना लिखा था, मैं उनसे गुज़र कर कुछ नए अनुभवों के साथ बाहर निकला हूं. जैसा कि मैंने बताया मैं भविष्य में यकीन रखता हूं और पुरानी बातों को मुड़ कर नहीं देखता हूं. मैंने ज़िंदगी के सभी चुनौतियों का सामना किया है और एक विजेता की तरह उनसे जीत कर निकला हूं."

'फैक्टरी' फ़िल्म में अपने नए भूमिका बतौर निर्देशक के बारे में फैसल का कहना है कि ये उनकी एक अटेम्प्ट है नए चीज़ों को खोजने और परखने के लिए.

यह भी पढ़ेंः धोनी और सचिन के बाद अब सौरव गांगुली की बायोपिक बनेगी, दादा ने खुद दी जानकारी

फैसल ने बताया, "शुरुआत में मैं इस फ़िल्म में केवल एक अभिनेता के तौर पर काम कर रहा था पर फ़िल्म के निर्देशक इस प्रोजेक्ट को अपना पूरा समय नहीं दे पा रहे थे तो मैंने काफ़ी बैक-एन्ड वर्क उस दौरान किए. ये देखते हुए फ़िल्म के निर्माताओं और मैंने ये तय किया कि हम अब इस फ़िल्म की पूरी ज़िम्मेदारी लेंगे. मैं फ़िल्म की हर प्रक्रिया का हिस्सा था तो मैंने सोचा क्यों न मैं इसे ऐसे बनाऊ जैसे मैं चाहता हूं."

तो आपके लिए अभिनेता के तरह काम करना ज़्यादा चुनौतीपूर्ण था या निर्देशक की तरह?

फैसल ने कहा, "मैंने पहले भी कई फिल्में की निर्देशन में मदद किया है क्योंकि मैं बहुत सुलझे हुए तरिके से ये काम करता हूं इसलिए ये मेरे लिए बिल्कुल कठिन नहीं है. मैंने बतौर अभिनेता कई वर्कशॉप किए है. सब बहुत आसानी से हो गया. मैंने पहले बहुत कुछ किया है तो मैंने सोचा कि क्यों न पुराने तजुर्बों को एक बेहतर इस्तेमाल में लाया जाए. मुझे लगता है ये निर्देशन के लिए एक सही समय है."

फैसल बोले, "अभिनेता के तौर पर मैं उम्रदराज हो गया हूं. अभी मैं 55 का हो गया हूं सो कबतक मैं अभिनेता की तरह काम कर पाऊंगा. ज़्यादा से ज़्यादा 8 से 10 साल तक मैं अपनी उम्र का किरदार निभा सकता हूं. इसलिए मैंने सोचा कि क्यों न निर्देशन की ओर रुख मोड़ा जाए. अगर ये फ़िल्म मेरी नहीं चलेगी तो मैं क्या करूंगा. मैं सीधे निर्देशन की ओर चला जाऊंगा जिसमें मुझे ज़्यादा दिक्कत भी नहीं होगी." फैसल ने कहा जिनकी आखरी फ़िल्म (काबू) 2002 में रिलीज हुई थी.

यह भी पढ़ेंः TMKOC: जेठालाल का बेटा टप्पू कर रहा है बबिता जी को डेट! दुनिया से छुपा रखा था अपना प्यार

फैसल एक थिएटर एक्टर हैं और उनका मानना है कि इस बात से महत्वपूर्ण कोई बात नहीं है. फैसल आगे बताते है कि "ये बहुत ज़रूरी है कि लोग अपनी काबिलियत को समझें. सबसे पहले आपको खुद का काम समझना होगा, उसके बाद ही आप अपनी कामयाबी या नाकामी का इल्जाम दूसरों पे दे सकते हैं. क़िस्मत के भरोसे कोई ज़्यादा नहीं टिक सकता. मैंने 'मदहोश' फ़िल्म में काफ़ी बुरी एक्टिंग की थी पर उसके बाद मैंने खुद पर काम किया और एक अच्छे कलाकार के तौर पर 'मेला' फ़िल्म में मैंने अभिनय किया और अपने साथ के बाक़ी कलाकारों के बराबरी पर आया. अपने काम को समझना बेहद ज़रूरी है."

क्या उन्हें लगता है कि भाई आमिर खान के साथ सुर्खियों में रहने की वजह से उनका करियर प्रभावित हुआ है?

इसपर फैसल कहते हैं, "अगर आप एक्टर हैं तो आपकी किस्मत के अलावा आपको कुछ प्रभावित नहीं कर सकता. आपको कठिन परिस्थितियों से गुजरना पड़ता है. मैं इन सबसे बाहर निकल चुका हूं और अब मैं एक्टर और निर्देशक की तरह अपनी पहचान बनाना चाहता हूं और देखना चाहता हूं कि मेरे किस्मत में क्या लिखा है. मैं सब अच्छा बुरा पीछे छोड़ कर एक क्रिएटिव व्यक्ति की तरह अपनी पहचान बनाना चाहता हूं."

हिंदी मीडियम' एक्ट्रेस Saba Qamar के खिलाफ PAK में अरेस्ट वारंट, मस्जिद को अपवित्र करने का आरोप

फैसल कहते हैं कि अपनी रोज़ी रोटी कमाने के लिए खुद की पहचान बनानी पड़ती है. फैसल ने कहा, "मुझे अपने कम्फर्ट जोन से बाहर आना होगा जोकि मैं कर रहा हूं अपनी आने वाली फिल्म 'फैक्टरी' की जरिए. मैंने अपनी पूरी क्षमता बतौर एक्टर और डायरेक्टर इस फ़िल्म में डाली है, मैं देखना चाहता हूं कि लोग इसे कितना पसंद करते है."

तो इसके बाद आप अपनी लाइफ कैसे प्लान कर रहे हैं?

इसपर फैसल कहते हैं, "मैं अपनी लाइफ कभी प्लान नहीं करता. मैं बहाव के साथ चलता रहता हूं. मैं खुद पर लगातार काम करता रहता हूं. जीवन की खूबसूरती ये है कि वो 'अंप्रेडिकेबल' है. मैं क्यों प्लान करूं? ज़िन्दगी तो इसी का नाम है न जब आप कुछ और सोचते और होता कुछ और हैं."

पर, क्या आप भविष्य में अपने भाई आमिर खान का भी निर्देशन करना चाहेंगे?

"नहीं, इसकी वजह ये है कि आमिर पूरी प्रोजेक्ट खुद ले लेते है और निर्देशक के तौर पर मैं ये चाहूंगा कि मैं अपनी फिल्म अपने तरिके से बनाऊ. मेरा खुद का एक नज़रिया है. मैं किसी को खुद पर हावी होने नहीं देना चाहता और न ही ये चाहता कि कोई मुझे बताए कि मुझे कैसे काम करना चाहिए." 

हिंदी मीडियम' एक्ट्रेस Saba Qamar के खिलाफ PAK में अरेस्ट वारंट, मस्जिद को अपवित्र करने का आरोप