केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि तेल-उत्पादक देश कच्चे तेल के दाम बढ़ा रहे हैं और इस वजह से देश में भी पेट्रोलियम उत्पाद महंगे हो रहे हैं.

प्रधान ने गुरुवार को कहा, ‘‘अधिक लाभ कमाने के लिए कच्चे तेल के आपूर्तिकर्ता देश दाम बढ़ा रहे हैं.’’ उनसे देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि के बारे में पूछा गया था. उन्होंने कहा कि कच्चे तेल के आपूर्तिकर्ता देशों से आग्रह किया गया है कि वे कच्चे तेल के दामों में बढ़ोतरी नहीं करें, क्योंकि इससे उपभोक्ता सीधे प्रभावित होते हैं.

ये भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल के दाम को कम करने के लिए RBI गर्वनर ने केंद्र और राज्यों को दी ये सलाह

प्रधान ने कहा कि इन देशों ने देशहित में कीमतें कृत्रिम तरीके से बढ़ाई हैं. उन्होंने कहा, ‘‘आप मनमाने तरीके से दाम नहीं बढ़ा सकते क्योंकि इससे उपभोक्ता देशों पर असर पड़ता है.’’

पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि खराब मौसम की वजह से पिछले दो-तीन सप्ताह में अमेरिका में भी उत्पादन घटा है. उन्होंने उम्मीद जताई कि स्थिति में जल्द सुधार होगा.

ये भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम करने के लिए निर्मला सीतारमण ने सुझाया ये उपाए

प्रधान ने कहा कि सरकार के समक्ष मूल समस्या राहत, रोजगार, रोजगार में लगे लोगों की नौकरियां बचाना और लोगों को पैसा उपलब्ध कराने का प्रयास करने के साथ स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार करना है. उन्होंने कहा कि सरकार गरीब वरिष्ठ नागरिकों को मुफ्त टीकाकरण के लिए 35,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी.

ये भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर केंद्र सरकार जल्द कर सकती है बड़ा ऐलान, विकल्प पर कर रही विचार

इससे पहले मंत्री ने साध्वी ऋतंभरा द्वारा संचालित वात्सल्य भवन की आधाशिला रखी. इस निर्माण दिव्यांग लोगों द्वारा किया जा रहा है. ओएनजीसी अपने कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) कार्यक्रम के तहत इसका वित्तपोषण कर रही है.

ये भी पढ़ेंः पेट्रोल-डीजल के कीमतों पर बड़े ऐलान के बाद तेल की कीमतों के खिलाफ ममता बनर्जी की अनोखी रैली