अगरतला, 22 मई (भाषा) त्रिपुरा के शिक्षा मंत्री रतनलाल नाथ ने कहा कि यहां एक निजी अस्पताल में इलाज करा रही 68 वर्षीय एक महिला ‘म्यूकरमाइकोसिस’ (ब्लैक फंगस) से संक्रमित पाई गई है।

त्रिपुरा सरकार ने ‘म्यूकरमाइकोसिस’ को महामारी रोग अधिनियम के तहत अधिसूच्य बीमारी घोषित कर दिया है। इस बीमारी को आम तौर पर ‘ब्लैक फंगस’ कहा जाता है।

नाथ मंत्रिमंडल के प्रवक्ता भी हैं।

उन्होंने राज्य सचिवालय में शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा कि यहां एक निजी अस्पताल में इलाज करा रही 68 वर्षीय एक महिला ब्लैक फंगस से संक्रमित है।

अधिकारियों ने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को महामारी रोग अधिनियम, 1897 के तहत ब्लैक फंगस को अधिसूच्य बीमारी घोषित करने का निर्देश दिया है।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण निदेशक राधा देबबर्मा ने कहा कि शुक्रवार को एक व्यक्ति के ब्लैक फंगस से संक्रमित पाए जाने के बाद राज्य सरकार ने अगरतला सरकारी चिकित्सा कॉलेज (एजीएमसी) और त्रिपुरा चिकित्सा कॉलेज (टीएमसी) में ऐसे मरीज़ों के इलाज के लिए अनिवार्य व्यवस्थाएं की हैं।

इस बीच, त्रिपुरा में शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 863 नए मामले सामने आए तथा दो और मरीजों की मौत हो गई। इसके साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 45,223 तथा मृतकों की संख्या बढ़कर 454 हो गई है।

नाथ ने संवाददाताओं को बताया कि राज्य में अब तक कोविड रोधी टीके की 15,34,142 खुराक दी जा चुकी हैं। इनमें से 10,27,399 लोगों को पहली और 5,06,743 लोगों को टीके की दोनों खुराक मिल चुकी हैं।