टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड रवाना होने से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वह न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल की तैयारी के लिए मिल रहे कम समय को लेकर चिंतित नहीं है. कोहली का मानना है कि उन्हें इंग्लैंड में खेलने के अपने पिछले अनुभव से परिस्थितियों की आवश्यक समझ है.

भारत और न्यूजीलैंड के बीच 18 जून से सॉउथम्पटन में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला खेला जाना है. न्यूजीलैंड दो जून से इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट की सीरीज खेल रही है, जबकि टीम इंडिया वहां पहुंचने के बाद तीन दिन होटल में क्वारेंटीन रहेगी.

यह भी पढ़ें: 12वीं का रिजल्ट कैसे तैयार होगा? CBSE का बयान आया

विराट कोहली ने इंग्लैंड के लिए रवाना होने से पहले कहा कि हम पहले भी मैच से सिर्फ तीन दिन पहले पहुंचे हैं और हमने सीरीज में जबरदस्त प्रदर्शन किया था. विराट ने कहा कि ये सिर्फ दिमाग में चलने वाली बात है. 

विराट ने कहा कि ये सिर्फ मानसिकता के बारे में है, उन्होने कहा, "ऐसा पहली बार नहीं है कि हम इंग्लैंड में खेल रहे हैं, हम सभी जानते हैं कि यहां की परिस्थितियां कैसी हैं."

विराट ने आगे कहा, "और भले ही आप परिस्थितियों के अभ्यस्त हों, यदि आप सही मानसिकता के साथ मैदान पर नहीं उतरते हैं, तो आप पहली गेंद पर आउट हो सकते हैं या आपको विकेट लेने में मुश्किल हो सकती है."

यह भी पढ़ें: डेटशीट जारी करने के बाद गुजरात बोर्ड ने रद्द की 12वीं की परीक्षा

कोहली के मुताबिक, अगर उन्हें सिर्फ चार अभ्यास सत्र मिलते हैं तो भी उनकी टीम को कोई दिक्कत नहीं होगी. विराट ने कहा कि उनकी टीम के सभी खिलाड़ी इंग्लैंड में खेले हैं और उनको अपनी टीम पर भरोसा है. 

विराट कोहली ने कहा कि उनकी टीम टेस्ट क्रिकेट खेलने में बहुत गर्व महसूस करती है और जैसा टीम ने पिछले कुछ समय में प्रदर्शन किया है वो बताता है कि इस टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट के क्या मायने हैं. 

यह भी पढ़ें: कौन है माहिरा इरफान? ऑनलाइन क्लास को लेकर पीएम से की शिकायत

With PTI inputs