पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोतरी की जा रही है. देश में पेट्रोल-डीजल की कीमत अब तक सबसे सर्वाधिक स्तर पर है. डीजल का दाम पेट्रोल की कीमतों से ज्यादा हो गया. ऐसा देश के इतिहास में पहली बार हुआ है जब डीजल की कीमतों में इतना इजाफा किया गया है.

वहीं, पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी पर पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा, रोजाना पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि कर केंद्र बस ‘‘मुनाफाखोरी” कर रहा है.

'20 लाख करोड़ का पैकेज का ऐलान कर लूट रही सरकार'

उन्होंने कहा कि एक तरफ केंद्र ने अर्थव्यवस्था के उत्थान के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा की जबकि दूसरी तरफ उसने उन लोगों को 'लूट' लिया जो मोटरसाइकिलों, स्कूटरों और अन्य वाहनों से सफर करते हैं. शनिवार को जहां डीजल के दामों में लगातार 21वें दिन वृद्धि की गई वहीं पेट्रोल की कीमत पिछले तीन हफ्तों में 20 बार बढ़ चुकी है.

सिन्हा ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, “ऐसे कई मौके आते हैं जब पेट्रोल और डीजल के दामों में वृद्धि करना अनिवार्य हो जाता है. लेकिन मैं अपने अनुभवों के आधार पर आपको बता सकता हूं कि आज की परिस्थिति में यह और कुछ नहीं बल्कि सरासर मुनाफाखोरी है.”

उन्होंने कहा, “यह जानना दुर्भाग्यपूर्ण एवं निराश करने वाला है कि सरकार मुनाफाखोरी का सहारा ले रही है.” सिन्हा ने कहा कि यह सबको पता है कि “अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कम हैं.”